×
Every problem might not have a solution right now, but don’t forget that but every solution was once a problem.
--Your friends at LectureNotes
Close

Note for Computer Organistaion and Operating System - COOS by bharat kumar

  • Computer Organistaion and Operating System - COOS
  • Note
  • JNVU - JNVU
  • 78 Views
  • 2 Offline Downloads
  • Uploaded 11 months ago
Bharat Kumar
Bharat Kumar
0 User(s)
Download PDFOrder Printed Copy

Share it with your friends

Leave your Comments

Text from page-3

• • Charles Babbage:- • कप्यूटर के इतिहास में 19 वी ििाब्दी को प्रारस्भभक समय का स्वर्णषम युग माना जािा है । अंग्रेज गर्णिज्ञ Charles Babbage ने एक यांबिक गणना मिीन (Mechanical Calculation Machine) ववकशसि करने की आवश्यकिा िब महसूस की जब गणना के शलए बनी हुई सारर्णयों में Error आिी थी चाँ ूकक यह Tables हस्ि तनशमषि (Hand-set) थी इसशलए इसमें Error आ जािी थी | • चार्लसष बैबेज ने सन ् 1822 में एक मिीन का तनमाषण ककया स्जसका व्यय बिहटि सरकार ने वहन ककया । उस मिीन का नाम डडफरें स इंस्जन (Difference Engine) रखा गया, इस मिीन में चगयर और साफ्ट लगे थे । यह भाप से चलिी थी । सन ् 1833 में Charles Babbage ने Different Engine का ववकशसि रूप Analytical Engine िैयार ककया जो बहुि ही िस्क्ििाली मिीन थी | बैवेज का कभप्यट ू र के ववकास में बहुि बड़ा योगदान रहा हैं । बैवेज का एनाशलहटकल इंस्जन आधतु नक कभप्यट ू र का आधार बना और यही कारण है कक चार्लसष बैवेज को कमप्यट ू र ववज्ञान का जनक कहा जािा हैं | • • Dr. Howard Aiken’s Mark-I:-

Text from page-4

• िन ् 1940 में विद्युत याांत्रिक कम्प्यूटटांग (Electrometrical Computing) लशखर पर पहुुँच चक ु ी थी ।IBM के चार शीर्य इांजीननयरों ि ॉ. हॉि य आइकेन ने िन ् 1944 में एक मशीन विकलित ककया यह विश्ि का िबिे पहिा “विधत ु याांत्रिक कां्यूटर” था और इिका official Name– Automatic Sequence Controlled Calculator रखा गया। इिे हािय य विश्िविद्यािय को िन ् 1944 के फरिरी माह में भेजा गया जो विश्िविद्यािय में 7 अगस्त 1944 को प्रा्त हुआ | इिी विश्िविद्यािय में इिका नाम माकय- I पड़ा| यह 6 सेकंड में 1 गण ु ाव 12 सेकंड में 1 भाग कर सकिा था| • • A.B.C. (Atanasoff – Berry Computer) :- • सन ् 1945 में एटानासोफ़ (Atanasoff) िथा क्लोफोडष बेरी (Clifford berry) ने एक इलेक्रॉतनक मिीन का ववकास ककया स्जसका नाम ए.बी.सी.(ABC) रखा गया| ABC िब्द Atanasoff Berry Computer का संक्षिप्ि रूप हैं | ABC सबसे पहला इलेक्रॉतनक डडस्जटल कंप्यूटर (Electronic Digital Computer) था | • • • • Computer System Concept

Text from page-5

Computer System Concept (कंप्यूटर की अिधारणा) June 17, 2016 13,496 Views 1 Min Read 2 Comments Share This! एक या एक से अचधक उद्दे श्यों को प्राप्ि करने के शलए कायषरि इकाइयों के समूह को एक “System” कहिे हैं| जैसे – Hospital एक System है स्जसकी इकाइयां (units) Doctor, Nurse, Medical, Treatment, Operation, Peasant आहद हैं | इसी प्रकार Computer भी एक System के रूप में कायष करिा है स्जसके तनभनशलर्खि भाग हैं| • Hardware • Software • User Hardware:- Computer के वे भाग स्जन्हें हम छु सकिे है दे ख सकिे है Hardware कहलािे हैं | जैस-े Keyboard, Mouse, Printer, Scanner, Monitor, C.P.U. etc.

Text from page-6

Software:- Computer के वे भाग स्जन्हें हम छु नहीं सकिे शसफष दे ख सकिे हैं सॉफ्टवेयर (Software) कहलािे हैं | जैसे- MS Word, MS Excel, MS PowerPoint, Photoshop, PageMaker etc. User:- वे व्यस्क्ि जो Computer को चलािे है Operate करिे है और Result को प्राप्ि करिे है , User कहलािे हैं| • • • • • • Computer System Characteristics/Features Features / Characteristics of Computer (कंप्यट ू र की विशेषताये) June 17, 2016 13,787 Views 3 Min Read • 5 Comments • • Share This! Speed (गतत):- आप पैदल चल कर कही भी जा सकिे है कफर भी साईककल, स्कूटर या कार का इस्िेमाल करिे है िाकक आप ककसी भी कायष को िेजी से कर सके Machine की सहायिा से आप कायष की Speed बड़ा सकिे है इसी प्रकार Computer ककसी भी कायष को बहुि िेजी से कर सकिा है Computer कुछ ही Second में गुणा, भाग, जोड़, घटाना जैसी लाखो कियाएाँ कर सकिा है यहद आपको 500*44 का मान ज्ञाि करना है िो आप 1 या 2 Minute लेगे यही कायष Calculation से करे िो वह लगभग 1 या 2 Second का समय लगेगा पर कंप्यूटर एसी लाखों गणनाओ को कुछ ही सेकंड में कलर सकिा हैं| • Automation (स्िचालन):- • हम अपने दै तनक जीवन में कई प्रकार की स्वचशलि मिीनों का Use करिे है Computer भी अपना पूरा कायष स्वचशलि (Automatic) िरीके से करिा है कंप्यूटर अपना कायष, प्रोग्राम के एक बार लोड हो जाने पर स्वि: करिा रहिा हैं| • • Accuracy (शद् ु धता):- Computer अपना सारा कायष बबना ककसी गलिी के करिा है यहद आपको 10 अलग-अलग संख्याओ का गण ु ा करने के शलए कहा जाए िो आप इसमें कई बार गलिी करे गे | लेककन साधारणि: Computer ककसी भी Process को बबना ककसी गलिी के पण ू ष कर सकिा है Computer द्वारा गलिी ककये जाने का सबसे बड़ा कारण गलि Data Input करना होिा है क्योकक Computer स्वयं कभी कोई गलिी नहीं करिा हैं| • Versatility (सािवभौमिकता):- • Computer अपनी सावषभौशमकिा के कारण बढ़ी िेजी से सारी दतु नया में अपना प्रभुत्व जमा रहा है Computer गर्णिीय कायों को करने के साथ साथ व्यावसातयक कायों के शलए भी प्रयोग में

Lecture Notes